अडानी फाउंडेशन के कांवरिया सेवा शिविर में श्रद्धालुओं की गई सेवा

अडानी फाउंडेशन के कांवरिया सेवा शिविर में श्रद्धालुओं की गई सेवा


Bolbam

गोड्डा टाइम्स, गोड्डा। सावन के पहले सोमवार को गोड्डा स्थित रत्नेश्वर धाम मंदिर में महादेव को जलार्पण करने के लिए बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचे। अडानी फाउंडेशन की तरफ से भी गोड्डा-भागलपुर मुख्यपथ पर सिकटिया के पास लगाए गए कांवरिया सेवा शिविर में डाक बम व अन्य भक्तों की सेवा की गई। इस सेवा शिविर के तहत भक्तों के गर्म पानी, चाय,शर्बत, फल आदि के अलावा मेडिकल सुविधाएं भी उपलब्ध कराई गईं। फाउंडेशन की तरफ से मेडिकल स्टाफ के साथ एक एंबुलेंस भी तैनात की गई थी। कंपनी के सीएसआर यूनिट हेड सुबोध सिंह ने जानकारी दी कि इस तरह के कैंप सावन भर प्रत्येक रविवार की शाम से सोमवार सुबह तक लगाए जाएंगे। सेवा के साथ साथ शिविर में रात भर भजन-कीर्तन का माहौल रहा। सेवा देने के लिए कंपनी की ओर से सुबोध सिंह, कृष्णा कलानी, मेजर अपाया,सत्यनारायण राउत्रे, शशांक झा, दिनेश मिश्र आदि के अलावा स्थानीय सोनू झा, हेमंत यादव, मिथिलेश चौधरी,निकेश यादव, बांके बिहारी यादव, पंकज यादव, रंजीत पाठक, सोनल ठाकुर, सोम मरांडी आदि उपस्थित थे। इस शिविर में ग्रामीण संघर्ष मोर्चा की तरफ से भी सहयोग मिला। मोर्चा की ओर से नारायण मंडल, तेज नारायण यादव, नितेश झा, राजकुमार चौधरी, समीर झा आदि ने श्रद्धालुओं की रात भर सेवा की।
sawan-bolbam
इससे पहले रविवार की रात करीब 8.30 बजे नगर पंचायत अध्यक्ष अजित सिंह,कंपनी के अधिकारी व ग्रामीणों ने मिलकर दीप प्रज्जवलित करके इस शिविर की विधिवत शुरुआत की। कंपनी की ओर से उपस्थित सत्यनारायण राउत्रे ने कहा कि सेवा सबसे बड़ा धर्म है। रत्नेश्वर धाम आ रहे डाक बम भी इस सेवा शिविर से प्रसन्न दिखे और इस प्रयास की सराहना की। उन्होंने कहा कि न केवल रत्नेश्वर धाम बल्कि जिले में स्थित अऩ्य शिव मंदिरों में जलार्पण करने जा रहे लोगों को इस शिविर से मदद मिलेगी क्योंकि भागलपुर से जल लेकर गोड्डा आने का यही एक मुख्य रास्ता है। रात भर में करीब 100 डाक बमों की सेवा की गई। मेडिकल टीम में शामिल शैलेंद्र कुमार, अर्चना झा व अनिता बारला शामिल थे। गौरतलब है कि रत्नेश्वर धाम की यात्रा कोई कम कठिन नहीं है। डाक बम को जहां बाबा बैद्यनाथ धाम में 24 घंटे में105 किलोमीटर की यात्रा तय करनी होती है, वहीं रत्नेश्वर धाम में जल चढ़ाने वाले ज्यादातर श्रद्धालु 12 घंटे में करीब 75 किलोमीटर की दूरी तय करते हैं।
Labels:
What do you say ?

Post a Comment

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.