महागामा में हाइवा ने महिला को कुचला, मौत

महागामा : महागामा थाना क्षेत्र के मोहनपुर कृष्णा लाइन होटल के पास गुरुवार की सुबह हाइवा ने एक साइकिल में धक्का मार दिया। इससे साइकिल पर पीछे बैठी भागाबांध की सकुलन बीबी (60 वर्ष) गिर गई। हाइवा उसके शरीर से पार हो गया। मौके पर ही उसकी मौत हो गई। सकुलन बीबी को उसका नाती साइकिल पर बैठाकर वृद्धा पेंशन लेने के लिए महागामा वनांचल ग्रामीण बैंक जा रहा था। घटना के बाद आसपास के लोगों ने हाइवा को घेर लिया तथा चालक पवन कुमार को पकड़ लिया। उसकी पिटाई भी कर दी। गाड़ी में भी तोड़फोड़ की तथा गोड्डा-महागामा मुख्य मार्ग को जाम कर दिया। सूचना मिलने पर महागामा पुलिस वहां पहुंची और चालक पवन कुमार को गिरफ्तार कर लिया। बाद में महागामा एसडीओ संजय पांडेय, महागामा इंस्पेक्टर अशोक कुमार, महागामा थाना प्रभारी महादेव यादव व महागामा अंचलाधिकारी देवाशीष ¨सह वहां पहुंचे। अधिकारियों ने ग्रामीणों से जाम हटाने का अनुरोध किया लेकिन ग्रामीण मानने को तैयार नहीं थे। महागामा एसडीओ व अंचलाधिकारी ने मृतक की बेटी को सहायता के रूप में दस हजार रुपये का चेक दिया। अन्य सहायता देने का आश्वासन दिया जिसके बाद ग्रामीण शांत हुए। करीब दो घंटे बाद जाम समाप्त हुआ। हाइवा जेएएच 18 डी 4891 को जब्त कर महागामा थाना लाया गया। महागामा थाना में हाइवा चालक पर लापरवाही से वाहन चलाने का मामला दर्ज किया गया है। शव को पोस्टमार्टम के लिए गोड्डा भेज दिया गया। मृतका के परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल हो रहा था। हाइवा पर गिट्टी लदा हुआ था।

नो इंट्री लागू होती तो नहीं होता हादसा : कांग्रेस के जिला सचिव इकराम अंसारी ने कहा कि यह घटना प्रशासन की लापरवाही के कारण हुई हे। 24 जून 2017 को महागामा के बसुआ चौक पर हाइवा से कुचलकर एक आदिवासी युवक की मौत हो गई थी। इसके बाद महागामा में नो इंट्री लागू करने के लिए कांग्रेस जिलाध्यक्ष ने धरना दिया था। इसके बाद कांग्रेस जिलाध्यक्ष दीपिका पांडेय ¨सह सहित आठ नामजद और 100 अज्ञात लोगों पर मुकदमा दर्ज करा दिया गया था। अगर नो इंट्री लागू होती तो शायद यह घटना नहीं होती।
What do you say ?

Post a Comment

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.